लालू के बगैर, RJD के लिए आसान नहीं राजनीतिक राह

फैसले के बाद आरजेडी प्रवक्ता मनोज झा केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि लालू के खिलाफ बदले की कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने कहा कि देश के दलित और पिछड़े नेताओं को लगातार निशाना बनाया जा रहा है

पटना: रांची की सीबीआई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को बरी कर दिया, लेकिन लालू को दोषी करार दिया. लालू को न्यायिक हिरासत में रांची जेल भेज दिया गया. लालू पर आए फैसले के बाद आरजेडी प्रवक्ता मनोज झा केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि लालू के खिलाफ बदले की कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने कहा कि देश के दलित और पिछड़े नेताओं को लगातार निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि बीजेपी उनसे राजनीतिक मोर्च पर लड़ने में विफल रही है. लालू यादव के जेल जाने के बाद अब आरजेडी के भविष्य पर फिर से काले बादल मंडराने लगे है. लालू की विरासत को संभालते हुए उनके बेटे तेजस्वी और तेजप्रताप यादव का राजनीतिक सफर शुरू तो हो चुका है लेकिन लालू के कद तक पहुंचने में अभी उन्हें काफी वक्त लगने वाला है. लालू ने छोटे बेटे तो बिहार की गठबंधन सरकार में डिप्टी सीएम भी रह चुके हैं और बड़े बेटे तेजप्रताप स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं.
लालू के जेल जाने के बाद अब उनके बेटे के पास एक भावनात्मक हथियार भी है. बिहार में लालू की छवि पिछड़ों के नेता के रूप में उभरी है. ऐसे में पिता लालू के जेल जाने पर वह उनके नाम अपनी और पार्टी की राजनीति चलाकर भी उनके बेटे आरजेडी का भविष्य तय कर सकते हैं. बिहार के मौजूदा राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में लालू की बेटों और आरजेडी के लिए राजनीतिक राह आसान नहीं है. वहां महागठबंन के टूटने के बाद बीजेपी-जेडीयू गठबंधन की सरकार है. विपक्ष में आरजेडी की स्थिति अच्छी जरूर है लेकिन सत्ता से लड़ान और वह भी लालू जैसे कद्दावर नेता के बगैर, यह उनके दोनों बेटे और आरजेडी के लिए मुश्किल जरूर होने वाला है.

Leave a Comment