राम राज्य रथयात्रा का शुभारंभ, छह राज्यों से गुजरेगी

राम राज्य रथयात्रा भाजपा शासित उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र के अलावा कांग्रेस शासित कर्नाटक से गुजरेगी. कर्नाटक में पार्टी इस साल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से सत्ता हथियाने की उम्मीद कर रही है. यात्रा अंतिम चरण में केरल से गुजरेगी.

अयोध्या: विश्व हिंदू परिषद के समर्थन से मंदिरों के नगर अयोध्या से मंगलवार को राम राज्य रथयात्रा का शुभारंभ किया जाएगा. यह यात्रा तमिलनाडु के रामेश्वरम में समाप्त होगी और इससे पहले अगले दो महीनों में छह राज्यों से गुजरेगी. अयोध्या में राम मंदिर के लिए अभियान सन 1990 में लालकृष्ण आडवाणी ने शुरू किया था, जिससे भाजपा देश में एक प्रमुख राजनीतिक ताकत बन गई. पिछले कुछ वर्षों में इस मसले को भाजपा ने अपने घोषणा-पत्रों में प्राथमिकता से हटाकर पीछे के पन्नों में धकेल दिया था. यहां तक कि उत्तर प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में भी यह मुद्दा नहीं उठाया गया. राम राज्य रथयात्रा में एक रथ होगा. एक टाटा मिनी ट्रक को रथ का स्वरूप दिया गया है. यह यात्रा भाजपा शासित उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र के अलावा कांग्रेस शासित कर्नाटक से गुजरेगी. कर्नाटक में पार्टी इस साल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से सत्ता हथियाने की उम्मीद कर रही है. यात्रा अंतिम चरण में केरल से गुजरेगी, जहां भाजपा अपने पैर फैलाने की कोशिश में जुटी है.
यूपी में सत्ता संभालने के बाद, गोरखपुर के पुजारी-राजनेता मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन दिया है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण एक महत्वपूर्ण एजेंडा है. दीपावली की पूर्व संध्या पर मंदिर के भव्य प्रदर्शन और धार्मिक पर्यटन के लिए कई योजनाओं के साथ, भगवाधारी मुख्यमंत्री ने संकेत दिया था कि यह मामला उनकी सरकार के लिए प्राथमिकता में है. आधिकारिक तौर पर यह रथयात्रा महाराष्ट्र के एक सामाजिक संगठन द्वारा आयोजित की जा रही है और इसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-बीजेपी से वैचारिक साम्य रखने वाले व्हीएचपी और मुस्लिम राष्ट्रीय मंच जैसे संगठन भाग लेंगे.

Leave a Comment