पवित्र भावना के तहत बहनें भाईयों को बांधती हैं राखी

रक्षाबन्धन भाई और बहन की आत्मीयता और स्नेह के बन्धन से रिश्तों को मज़बूती देने वाला त्योहार है.

Leaks: श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला रक्षाबंधन का त्योहार भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है. इस मौके पर बहनें भाइयों की दाहिनी कलाई में राखी बांधती हैं, तिलक लगाती हैं और उनसे अपनी रक्षा का संकल्प लेती हैं. इस दिन रूठी बहन और भाई को मनाने के लिए आपको कुछ करने की जरूरत ही नहीं होती, दरअसल ये दिन होता ही कुछ ऐसा है, जहां सब अपने गिले-शिकवे भुला देते हैं. रक्षाबन्धन के त्योहार में रक्षासूत्र यानी राखी कच्चे सूत से लेकर रंगीन कलावे, रेशमी धागे और सोने या चांदी जैसी महंगी वस्तु तक की हो सकती है. लेकिन इस पावन त्योहार में रक्षासूत्र या राखी से अधिक महत्व उस भावना का है, जिस पवित्र भावना के तहत बहनें भाईयों को राखी बांधती हैं. रक्षाबन्धन के मौके पर पुरोहित यजमानों के घर जाते हैं और उन्हें राखी बांधते हैं, जिसके बदले में यजमान पुरोहितों को दक्षिणा देते हैं और भोजन कराते हैं. रक्षासूत्र बांधते समय पुरोहित एक श्लोक का उच्चारण करते हैं, कहा जाता है कि इस श्लोक का संबंध राजा बलि की वचनबद्धता से जुड़ा है. रक्षाबन्धन भाई और बहन की आत्मीयता और स्नेह के बन्धन से रिश्तों को मज़बूती देने वाला त्योहार है. इस बार रक्षाबन्धन के दिन चंद्रग्रहण भी पड़ रहा है ऐसे में समय से अपने भाई को राखी बांधना न भूलें. सुबह 11.07 बजे से दोपहर 1.50 बजे तक रक्षा बंधन के लिए शुभ समय है.

Leave a Comment