जीत का अंतर तय करेगा, जारी है मोदी लहर

चार विधानसभा सीटों पर बीजेपी और एक विधानसभा सीट पर अनुप्रिया पटेल गुट के अपना दल (सोनेलाल) का कब्जा है. 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद अब तक वाराणसी के लिए करीब 315 परियोजनाएं स्वीकृत हुईं हैं.

वाराणसी: देशभर में चर्चा का विषय बनी वाराणसी लोकसभा सीट. वाराणसी लोकसभा सीट के अंतर्गत रोहनिया, वाराणसी उत्तर, वाराणसी दक्षिण, वाराणसी कैंट और सेवापुरी विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें से चार विधानसभा सीटों पर बीजेपी और एक विधानसभा सीट पर अनुप्रिया पटेल गुट के अपना दल (सोनेलाल) का कब्जा है. 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद अब तक वाराणसी के लिए करीब 315 परियोजनाएं स्वीकृत हुईं हैं, जिनमें से लगभग 279 परियोजनाएं पूरी की जा चुकी हैं. 2014 में हुए आम चुनाव में वाराणसी लोकसभा सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारी बहुमत के साथ जीत दर्ज की थी. पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल को 3,71,784 वोटों के अंतर से हराया था. पीएम मोदी को कुल 5,81,022 वोट मिले थे. दूसरे स्थान पर रहे अरविंद केजरीवाल को 2,09,238 वोट मिले थे. वहीं, 75,614 वोटों के साथ कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय तीसरे स्थान पर रहे थे. इस चुनाव में अजय राय अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए थे.
वाराणसी लोकसभा सीट पर अबतक 15 बार चुनाव हुए हैं. इस सीट पर 6 बार कांग्रेस और 6 बार बीजेपी को जीत हासिल हुई है. वारणसी लोकसभा सीट जनता दल, सीपीएम, बीएलडी के खाते में एक-एक बार गई है. वाराणसी लोकसभा सीट पर मतदाताओं की कुल संख्या 17,66,487 है. इनमें से 9,85,395 पुरुष मतदाता और 7,81,000 महिला मतदाता हैं. वाराणसी संसदीय सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें और अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होगा.

Leave a Comment