महाशिवरात्रि का त्योहार, हर प्रहर भगवान शिव की आराधना

शिवरात्री मनाने के पीछे मुख्यतः दो मान्यताएं मानी जाती है. पहली की सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ था. जबकि कुछ का मानना है की इस दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती से हुआ था. महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 13 फरवरी की आधी रात से शुरू होकर 14 फरवरी तक रहेगा.

Leaks: हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल फाल्गुन माह में 13वीं रात या 14वें दिन महाशिवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है. इस त्योहार में श्रद्धालु पूरी रात जागकर भगवान शिव की आराधना में भजन गाते हैं. व्रत और उपवास भी करते हैं. शिव लिंग को पानी और बेलपत्र चढ़ाने के बाद ही वे अपना उपवास तोड़ते हैं. शिवरात्री मनाने के पीछे मुख्यतः दो मान्यताएं मानी जाती है. पहली की सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ था. जबकि कुछ का मानना है की इस दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती से हुआ था. इस बार शिवरात्रि में खास बात यह है कि भक्तजन रात के चार प्रहर भगवान शिव की आराधना कर सकते हैं. महाशिवरात्रि हिंदू धर्म का एक प्रमुख त्योहार है. महाशिवरात्रि का पर्व 13 फरवरी 2018 दिन मंगलवार को मनाया जाएगा.
महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 13 फरवरी की आधी रात से शुरू होकर 14 फरवरी तक रहेगा. शिवरात्रि निशिता काल पूजा का समय रात 12:0 9 बजे से 13:01 am तक रहेगा. मुहूर्त की अवधि कुल 51 मिनट की है. वर्ष भर में 12 शिवरात्रियां आती है लेकिन इन सभी में फाल्गुन माह की शिवरात्रि को सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण माना जाता है. वैसे तो इस व्रत को कोई भी रख सकता है लेकिन महिलाएं और लड़कियां इस व्रत को बड़े शौक से रखती है. माना जाता है, इस व्रत के प्रभाव से कुंवारी लड़कियों को मनचाहा वर प्राप्त होता है और जिन महिलाओं का विवाह हो चुका है उनके पति का जीवन और स्वास्थ्य हमेशा अच्छा रहता है.

Leave a Comment