पाटलीपुत्र की लड़ाई दिलचस्प, मैदान में यादव उम्मीदवार

पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में बीजेपी और जेडीयू वोटों की कुल संख्या 49.09 फीसदी होता है. वहीं दूसरी ओर आरजेडी,सीपीआईएमएस,कांग्रेस का वोट जोड़ दें तो उनके कुल वोटों की संख्या 43.26 फीसदी तक पहुंचता है.

पटना: पाटलीपुत्र लोकसभा सीट यादव बहुल इलाका है. यहां 5 लाख यादव, साढ़े चार लाख भूमिहार, 3 लाख राजपूत और कुर्मी और डेढ़ लाख ब्राह्मण मतदाता हैं. पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में 6 विधानसभा क्षेत्र हैं जिसमें दानापुर, मनेर, फुलवारी, मसौठी, पालीगंज और विक्रम जैसे क्षेत्र आते हैं. इसमें से फुलवारी और मसौठी रिर्जव क्षेत्र हैं. इन विधानसभाओं में से मनेर,मसौठी और पाली पर आरजेडी का कब्जा है. जबकि दानापुर पर बीजेपी, फुलवारी पर जदयू और विक्रम पर कांग्रेस का कब्जा है. यानि 6 विधानसभा में से 4 पर महागठबंधन और दो पर बीजेपी-जदयू का कब्जा है . सन 2009 के लोकसभा चुनाव में पहली बार पटना लोकसभा क्षेत्र को बांटकर पटना साहिब और पाटलिपुत्र दो लोकसभा क्षेत्र बनाए गए. 2009 में रंजन प्रसाद यादव जेडीयू से चुनाव जीते थे..तब उन्होंने बीजेपी के रामकृपाल यादव को 23 हजार से कुछ अधिक वोटों से हराया था. लेकिन 2014 के मोदी लहर में रामकृपाल ने यह सीट जीत ली और आरजेडी की मीसा यादव को मात दी. रामकृपाल को 39.16 फीसदी वोट मिले तो मीसा यादव को 35.04 फीसदी वोट और जीत का अंतर सिर्फ 41 हजार वोटों का था.
2014 में जेडीयू अलग रही थी और वह किसी गठबंधन का हिस्सा नहीं थी. अब वह बीजेपी के साथ है तो जेडीयू के 9.93 फीसदी वोट को भी बीजेपी के साथ जोड़ना पड़ेगा. ऐसे में पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में बीजेपी और जेडीयू वोटों की कुल संख्या 49.09 फीसदी होता है. वहीं दूसरी ओर पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में सीपीआईएमएल को भी 5.27 फीसदी वोट मिले थे. इस लिहाज से महागठबंधन के सभी दलों यानि आरजेडी,सीपीआईएमएस,कांग्रेस का वोट जोड़ दें तो उनके कुल वोटों की संख्या 43.26 फीसदी तक पहुंचता है. इस बार भी रामकृपाल यादव और मीसा यादव मैदान में हैं.

Leave a Comment