कश्मीर में हलचल जारी, रोकी गई माछिल माता यात्रा

सेना ने एक आदेश जारी करके पर्यटकों और अमरनाथ यात्रियों को घाटी छोड़ने को कहा था. अमरनाथ यात्रा को लेकर इंटेलिजेंस इनपुट के हवाले से आतंकवादी खतरे की बात कहते हुए जम्मू कश्मीर सरकार ने शुक्रवार को एक एडवाइजरी जारी की. इसमें तीर्थयात्रियों को घाटी से जल्द से जल्द लौटने की सलाह दी गई है. जम्मू कश्मीर के गृह विभाग ने यह एडवाइजरी जारी की है. यात्रा को लेकर कहा गया है कि इस तरह के इनपुट हैं कि यात्रा को पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों की ओर से निशाना बनाया जा सकता है.

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ जिले की 43 दिन तक चलने वाली माछिल माता यात्रा को सुरक्षा कारणों से शनिवार को रोक दिया गया है. अधिकारियों ने लोगों से यात्रा नहीं शुरू करने और जो लोग रास्ते में हैं उनसे वापस लौटने को कहा है. किश्तवाड़ के उपायुक्त अंग्रेज सिंह राणा ने पीटीआई-भाषा को बताया, सुरक्षा कारणों के चलते तत्काल प्रभाव से यात्रा रोक दी गई है. यह यात्रा 25 जुलाई को शुरू हुई थी और पांच सितंबर को इसे खत्म होना था. देश भर से हजारों श्रद्धालु यात्रा के दौरान खूबसूरत पद्दार घाटी को देखने आते हैं जो नीलम की खानों के लिए भी प्रसिद्ध है. क्रिकेटरों को भी कश्मीर घाटी छोड़ने का निर्देश दिया गया है. जम्मू कश्मीर क्रिकेट संघ (जेकेसीए) ने जम्मू कश्मीर क्रिकेट टीम के मेंटॉर और पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान सहित कई क्रिकेटरों को कश्मीर छोड़ने को कहा है. जेकेसीए के एक सीनियर अधिकारी ने न्यूज एजेंसी आईएएनएस से बातचीत में इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि ऐसा सुरक्षा कारणों से किया गया है. अधिकारी ने कहा, हम इरफान और अन्य सहयोगी स्टाफ की देखरेख में प्री-सीजन ट्रेनिंग कर रहे थे. ये मैच घरेलू सत्र के लिए टीम में खिलाड़ियों के चयन में मदद करेंगे लेकिन शनिवार को यह फैसला किया गया कि कश्मीर (यह जगह) छोड़ देनी चाहिए और सुरक्षा के हालात ठीक होने के बाद ही वापस लौटना चाहिए.

Leave a Comment