पीएनबी में महाघोटाले का असर, डूब गए निवेशक

वित्त मंत्रालय ने सभी बैंकों को इस मामले से जुड़ी या इस प्रकार की घटनाओं के संबंध में इस सप्ताह के अंत तक रिपोर्ट देने के लिए भी कहा है. देश की चार बड़ी आभूषण कंपनियां- गीतांजलि, गिन्नी, नक्षत्र और नीरव मोदी इस मामले में जांच के घेरे में आ चुके हैं. सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय उनकी विभिन्न बैंकों से सांठगाठ और धन के इस्तेमाल की जांच कर रहे हैं.

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक में 11333 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आने के बाद से महज दो दिन में उसके शेयर 17 फीसदी तक टूट चुके हैं. इससे निवेशकों के 6840 करोड़ रुपए डूब चुके हैं. पीएनबी के घोटाले का असर अन्य पीएसयू बैंकों के स्टॉक्स पर भी हुआ है. 14 फरवरी को पहले दिन ही पीएनबी के शेयर 10 फीसदी तक टूट गए थे और उसी दिन बैंक निवेशकों के 3000 करोड़ रुपए डूब गए थे. इसी तरह 15 फरवरी यानी आज मार्केट खुलने के बाद उसके शेयर में भारी गिरावट जारी है. सभी सरकारी बैंकों के निवेशकों को कुल मिलाकर करीब 15 हजार करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा. इस घोटाले की कुल राशि पीएनबी के लगभग 36000 करोड़ रुपए के कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन का लगभग एक-तिहाई है. पीएनबी बैंक इंडेक्स शुरुआत में ही 1.4 फीसदी नीचे चला गया. पीएसयू बैंकों के साथ ही कुछ ज्वैलरी कंपनियों के स्टॉक्स में भी भारी गिरावट देखी जा रही है. फ्रॉड में शामिल गीतांजलि जेम्स के शेयर में गुरुवार को 19 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.
देश के दूसरे सबसे बड़े पीएसयू बैंक- पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में करीब 1.77 अरब डॉलर यानी करीब 11,330 करोड़ रुपए का स्कैम पकड़ा गया है. यह मामला मुंबई के एक ब्रांच से जालसाजी के जरिए किए गए अनधिकृत ट्रांजैक्शन से जुड़ा हुआ है. इस फर्जीवाड़े के बाद पीएनबी का शेयर बुधवार को 10 फीसदी तक टूट गया, जिससे निवेशकों के 3000 करोड़ रुपए डूब गए. यह पीएनबी के कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन का लगभग एक-तिहाई है. घोटाले में पीएनबी के 10 अधिकारियों-कर्मचारियों के नाम के साथ ही अरबपति डायमंड व्यापारी नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के प्रमुख मेहुल चोकसी के नाम भी आए हैं.

Leave a Comment