बिहार: घने कुहरे का कहर, सफर पर छायी धुंध

पटना का एयर ट्रैफिक पूरी तरह अस्त -व्यस्त रहा.महात्मा गांधी सेतु, एनएच पर कोहरे की वजह से जाम की स्थिति कायम रही. ट्रेनों की रफ्तार पर ब्रेक लगा रहा.

पटना: घने कुहरे ने ट्रेनों की रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है. राजधानी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों की चाल पर भी लगाम लग गयी है. कोहरे के चलते नयी दिल्ली से पटना आनेवाली राजधानी एक्सप्रेस शुक्रवार को सात घंटे देरी से 12 बजे पटना जंक्शन पहुंची. जबकि ट्रेन के आने का समय सुबह पांच बजे है. ऐसे में यात्रियों को भोजन व नाश्ते के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी, जिस कारण लोगों ने हंगामा किया. रेलवे पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए यात्रियों ने कहा कि ट्रेन लेट होने के चलते सुबह का नाश्ता भी नहीं दिया गया. सिर्फ चाय, बिस्कुट और नमकीन देकर ही यात्रियों को पटना तक लाया गया. वहीं राजधानी के अलावा मगध, विक्रमशिला, पुर्वा, श्रमजीवी, राजेंद्र नगर हावड़ा के अलावा दर्जनों ट्रेनें अपने तय समय से आठ से 10 घंटे देरी से चल रही थीं.
पटना का एयर ट्रैफिक पूरी तरह अस्त -व्यस्त रहा. एयर मैनेजमेंट फ्लो सिस्टम के तहत खराब मौसम की पूर्व सूचना पाकर सुबह वाले विमान दोपहर दो बजे के बाद पटना के लिए रवाना हुए. उम्मीद थी कि कल की तरह ढ़ाई बजे तक मौसम ठीक हो जायेगा और विमानों को लैंडिंग की इजाजत मिल जायेगी. लेकिन मौसम साफ होने का नाम ही नहीं ले रहा था. इस दौरान पटना आने वाले 11 फ्लाइट अलग अलग जगहों पर डायवर्ट कर दिये गये जबकि 15 फ्लाइट को रद्द कर दिया गया. साथ ही आधा दर्जन फ्लाइट को इस दौरान होल्ड पर रखा गया, जो एक क्यू में पटना के आसमान में चक्कर लगाते रहे. घंटे भर से अधिक चक्कर लगाते बीतने के बाद भी जब विमान को उतरने की इजाजत नहीं मिली तो यात्रियों को घबड़ाहट होने लगी. महात्मा गांधी सेतु, एनएच व अशोक राजपथ पर कोहरे की वजह से जाम की स्थिति कायम रही. खासतौर पर शुक्रवार की सुबह में लगभग दस बजे गांधी सेतु पर जाम की स्थिति कायम थी. कुहासे में चालक वाहनों का परिचालन धीरे-धीरे कर रहे थे. यह स्थिति गुरुवार की शाम से ही आरंभ हो गयी थी. ऐसे में वाहनों की धीमी रफ्तार व बढ़ते दबाव की स्थिति में जाम की समस्या कायम थी. कुछ इसी तरह की स्थिति एनएच व गायघाट पीपा पुल पर भी दिखा. वाहनों की रफ्तार पीपा पुल पर भी धीरे हो गयी थी.

Leave a Comment