15वीं सदी से होता आया है, सारा लेनदेन कैशलेस

गुवाहाटी से 32 किमी दूर छोटे से कस्बे में असम की तिवा जनजाति के लोग हर साल एक अनोखे व्यापारिक मेले का आयोजन करते हैं

गुवाहाटी: पीएम मोदी सरकार कैशलेस अर्थव्यवस्था पर जोर दे रही है ताकि भ्रष्टाचार और कालेधन पर रोक लगाई जा सके. सरकार नकदीरहित व्यवस्था लाने के लिए नित-नए कदम भी उठा रही है. लेकिन गुवाहाटी से 32 किमी दूर छोटे से कस्बे में असम की तिवा जनजाति के लोग हर साल एक अनोखे व्यापारिक मेले का आयोजन करते हैं जिसमें सारा लेनदेन सिर्फ और सिर्फ नकदीरहित होता है. मध्य असम और पड़ोसी मेघालय की जनजाति तिवा असम के मोरीगांव जिले में जनवरी के तीसरे हफ्ते में सालाना तीन दिवसीय मेले जुनबील का आयोजन करती है और इस समुदाय ने पांच से भी ज्यादा सदियों से इस किस्म के लेनदेन की व्यवस्था को बनाए रखा है. मेले का हाल ही में समापन हुआ है. इसमें शरीक होने वाले असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि तिवा लोगों के इस चलन से लोगों को सीखना चाहिए. इतिहासकारों के मुताबिक. इस मेले का आयोजन 15वीं सदी से होता आया है. सोनोवाल ने ऐलान किया कि इस मेले के लिए एक स्थायी भूखंड आवंटित किया जाएगा ताकि भविष्य में भी इस मेले का आयोजन लगातार होता रहे तथा पर्यटन को बढ़ावा मिलता रहे जिससे स्थानीय लोगों को लाभ होगा.

Leave a Comment