पुराने नियम से ही बालू खनन होंगे, कोर्ट ने लगाई फटकार

कोर्ट ने आला अधिकारियों को 18 दिसंबर को व्यक्तिगत रूप से हलफनामा दायर करने का आदेश. हलफनामा दायर करने के पहले राज्य के मुख्य सचिव को दिखा दिया जाए.

पटना: चैंपियन ग्रुप ऑफ कंपनी सहित अन्य की ओर से दायर याचिका पर अदालत ने सुनवाई की. सुनवाई के बाद अदालत ने कहा कि जब कोर्ट ने नई नियमावली पर रोक लगाकर पुरानी नियमावली के तहत कार्य करने का आदेश दिया है तो फिर कैसे विभाग रोज रोज नए-नए निर्देश और अधिसूचना जारी कर रहा है. इसे अदालती आदेश की अवहेलना क्यों नहीं माना जाए. कोर्ट ने दोनों आला अधिकारियों को 18 दिसंबर को व्यक्तिगत रूप से हलफनामा दायर करने का आदेश दिया। साथ ही कहा कि हलफनामा दायर करने के पहले राज्य के मुख्य सचिव को दिखा दिया जाए.
हाईकोर्ट ने बालू और गिट्टी का खनन पुरानी नियमावली के तहत करने का आदेश खनन विभाग को दिया है. साथ ही स्पष्ट आदेश के बावजूद खनन विभाग की ओर से नए-नए निर्देश जारी करने पर विभाग के प्रधान सचिव तथा उपसचिव की कार्यशैली पर तीखी टिप्पणी की. खंडपीठ ने हाईकोर्ट के आदेश के बाद विभाग की ओर से जारी सभी निर्देशों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी. राज्य में पुरानी नियमावली के तहत बालू खनन की अनुमति देने के बारे में विभाग को कानून के तहत आदेश जारी करने को कहा. मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेंद्र मेनन तथा न्यायमूर्ति डॉ. अनिल कुमार उपाध्ययाय की खंडपीठ ने एक साथ आधे दर्जन रिट याचिकाओं पर सुनवाई की.

Leave a Comment