अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू, पहली बार तकनीक का इस्तेमाल

अधिकारियों ने बताया कि पूरे यात्रा मार्ग में सुरक्षा के लिए तीर्थ यात्रियों के संचालन की उपग्रहों के जरिए निगरानी, जैमर लगाने, सीसीटीवी कैमरे और बुलेटप्रूफ बंकर, खोजी कुत्तों की तैनाती जैसे उपाए किए जाएंगे.

जम्मूः पुलिस महानिरीक्षक एस डी सिंह जामवाल ने पीटीआई को बताया, पंजाब की सीमा से जम्मू कश्मीर के प्रवेश बिंदु लखनपुर में विशेष काउंटर बनाए जाएंगे. अमरनाथ तीर्थयात्रियों को ले जाने वाले सभी वाहनों की आवाजाही पर नजर रखने के लिये उनमें ट्रैकिंग चिप लगाए जाएंगे. हिमालय पर 3,880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा के लिये 60 दिवसीय यात्रा 28 जून से शुरू हो रही है. तीर्थ यात्रियों का पहला जत्था 27 जून को भगवती नगर आधार शिविर से रवाना होगा. जामवाल ने कहा कि गांदेरबल के बालटाल और अनंतनाग के पहलगाम आधार शिविरों के लिये रवाना होने के बाद गाड़ियों पर नजर रखने के लिये ऐसी तकनीक का पहली बार इस्तेमाल किया जा रहा है. ये दो रास्ते पवित्र गुफा तक तीर्थयात्रियों को लेकर जाते हैं जहां बाबा बफार्नी विराजमान हैं. पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि इस साल यात्रा के लिये सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं और श्रद्धालु बिना किसी डर के यात्रा करें. सेना, पुलिस, अर्धसैनिक बलों और राज्य तथा केंद्रीय खुफिया एजेंसियों समेत सभी सुरक्षा एजेंसियां साथ मिलकर काम कर रही हैं. जामवाल ने कहा कि हम किसी भी स्थिति ने निपटने के लिये तैयार हैं. सुरक्षा एजेंसियों की खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि अमरनाथ यात्रा पर आने वाले यात्रियों को निशाना बनाने के लिए करीब 200 आतंकियों को खासतौर से ट्रेनिंग दी गई है.

Leave a Comment